BREAKING NEWS

कन्या भ्रूण हत्या पाप है, पाप है: नारों के साथ दिया बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का संदेश

मंगलवार, 13 फ़रवरी 2018 | Admin Desk

जमानियाँ।(गाजीपुर)। राष्ट्रीय सेवा योजना, हिन्दू स्नातकोत्तर महाविद्यालय के छात्रा और छात्र मंगलवार की सुबह करीब 11 बजे में सामाजिक कुरीति उन्मूलन को ध्यान में रखकर कन्या भ्रूण हत्या रोकने तथा 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' का संदेश जन जन पहुंचाने के लिए स्वयं सेविकाओं ने किया नुक्कड़ नाटक कर दिया सामाजिक कुरीतियों को जड़ से उखाड़ फेंकने का संदेश।इस हेतु स्टेशन बाजार स्थित सरस्वती चबूतरा पर नुक्कड़ नाटक अभिनीत किया गया । स्वयं सेविकाओ ने बडी़ ही बारीकी से स्त्री जीवन के बैर -विशाद तथा सास- बहू ,देवरानी -जेठानी सहित अन्यान्य रिस्तों में स्त्रियों की संकुचित दृष्टि तथा बेटे और बेटियों में अंतर करने को कुदरती और इंसानी तरीके से गलत बताया। इस सामाजिक कुरीति को मिटाने का संकल्प दिलाने वाले इस नाटक में डाक्टर की भूमिका शना परवीन ने निभाया। उपस्थित टोली वासियों को यह संदेश दिया कि बेटा और बेटी में अन्तर न करें । डाक्टर शना ने कहा कि गर्भवती महिलाओं को यह कहते सुना जा सकता है कि अमुक स्त्री को लड़का पैदा होने वाला है मानो लडकी कोई पैदा करना कोई अपराध हो। कुदरत ने जब लड़का लड़की में अंतर नहीं करती हो हमें यह अधिकार किसने दे रखा है ? उपस्थित लोगों ने इस नाटक को बहुत सराहा तथा बेटा अौर बेटी मे अन्तर न करने का संकल्प लिया । इस नुक्कड़ नाटक मे सास -मोनिका सिंह , छोटी बहु -नाजिया खातुन ,पति रेखा गुप्ता सहित दर्जन भर कलाकारों ने अपनी कला से सार्थक संदेश दिया । मंचित नाटक मे आयुशी दुबे ,रितु विश्वकर्मा , नर्गिस ,शबीना, पूजा यादव ,अफसा खातून , प्रीति सिंह राठौर आदि की भूमिका सराहनीय रही।इस अवसर पर गया गया दर्दनाक गीत - भ्रूण हत्या कके विद्यमान ना कहइबा , मार ताल बेटी बहू कहाँ से लियइबा। उपस्थित लोगों की आँखें नम हो गईं।कार्यक्रम का संयोजन कार्यक्रम अधिकारी डॉ. अरुण कुमार ने किया।कार्यक्रम में उपस्थित लोगों के लिए आभार वरिष्ठ कार्यक्रम अधिकारी डॉ. अखिलेश कुमार शर्मा शास्त्री ने किया। नुक्कड़ नाटक के मंचन में कैम्पस अम्बेसडर बुशरा परवीन और राहुल कुमार ने सकारात्मक भूमिका निभाई।

रिपोर्ट:मो ईशा नियाजी

आगे पढ़ें >>
  Page: 1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | 9 | 10 |   Next »    Last