BREAKING NEWS

PREV NEXT

FB-Share Twwet Gplus-Share Pin-it

गाजीपुर। सार्वभौमिक एकता व अखंडता के साथ दुनिया के सबसे मजबूत और बडे लोकतंत्र के रुप मे हमारे देश का गणतंत्र मजबूत हुआ है। उक्त बात आज केन्द्रीय रेल व संचार राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने भारतीय जनता पार्टी गाजीपुर जिला कार्यालय पर गणतंत्र दिवस पर झंडारोहण कर वही आयोजित एक कार्यक्रम मे कही। उन्होंने कहा कि आज से 68 वर्ष पहले 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान को लागू कर गणतंत्र के स्थापना के बाद से इस तेज गति से बढती हुई अर्थ व्यवस्था मे हमने विश्व मे एक अलग पहचान बनाई है । संविधान के निर्माताओं ने जो लक्ष्य लेकर भारतीय संविधान की संरचना की उसे हम प्राप्त करने मे सक्षम हुए हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व मे समाज के निचले से निचले तमाम लोगों की भागीदारी, जिम्मेदारी सत्ता व संगठन मे बढी है। प्रधानमंत्री की सोच नये भारत के निर्माण मे देश आर्थिक मजबूती के साथ विश्व पटल पर मान सम्मान से आगे बढा है। उन्होने कहा कि भारत मे लोकतंत्र इतना मजबूत है कि छोटी मोटी चीजों को छोड दिया जाय तो आजादी के बाद से अब तक लोकतंत्र पर कोई आघात नही हुआ है। और जिसने भी चोट पहुचाने का प्रयास किया उसे सबक भी जनता ने दिया है। जनता की ताकत सर्वोपरि है। जिलाध्यक्ष भानूप्रताप सिंह ने कहा कि जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व मे देश मजबूत हुआ है, उसी तरह गाजीपुर मे मंत्री मनोज सिन्हा के विकास वादी कार्यो से जिले मे भी गणतंत्र मजबूत हुआ है। इससें पहले जिला कार्यालय पर मंत्री मनोज सिन्हा ने झंडा रोहण कर राष्ट्गान गाया।। इस अवसर पर जिलामहामंत्री ओमप्रकाश राय, रामनरेश कुशवाहा, सुनील सिंह, अखिलेश सिंह, योगेश सिंह, अमरनाथ दुबे, रासबिहारी राय, राजीव कुमार सिंह, अर्जुन सेठ, देवव्रत चौबे, जिला मीडिया प्रभारी शशिकान्त शर्मा सहित आदि अन्य लोग उपस्थित थे।

मंत्री जी डोर खीचते रहे, नहीं फहरा तिरंगा
गाजीपुर के भाजपा कार्यालय पर आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह मे राष्ट्रीय ध्वजारोहण के दौरान घोर लापरवाही बरतने का नजारा सामने आया। गणतंत्र दिवस के अवसर पर रेल राज्‍य मंत्री मनोज सिन्‍हा बतौर मुख्य अतिथि शामिल थे। समारोह के दौरान नियत समय पर जब मंत्री जी तिरंगा फहरा रहे थे तब ध्वज की डोर फंस गई और राष्ट्रीय ध्वज परम्परागत तरीके से नही फहराया जा सका। समारोह के दौरान ऐसी गड़बड़ी देख कर लोग हैरत में पड़ गये। इस दौरान मंत्री महोदय काफी देर तक ध्वज की डोरी खींच कर झंडा फहराने की कोशिश करते रहे,लेकिन ऐसा न हो सका। ध्वजारोहण मे अचानक आई इस अड़चन को लेकर मौके पर मौजूद भाजपाई भौचक्के रह गये। आखिरकार एक व्‍यक्ति ने छत की रेलिंग पर चढकर अपने हाथ से फंसी हुई डोर खोली, तब जाकर तिरंगा फहर सका।